अंडे के पीले भाग में छिपा है, सेहत का राज… > .

अक्‍सर देखा जाता है कि बहुत से लोग अंडा तो खा लेते हैं, लेकिन उसके बीच के भाग को छोड़ देते हैं। इन लोगो का मानना होता है कि योल्‍क को खाने से उनके शरीर का वजन बढ़ेगा।
अंडे के पीले भाग में छिपा है, सेहत का राज...
माना की अंडे का सफेद वाला भाग स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है, लेकिन अंडे का बीच वाला भाग भी कोई कम पोषक वाला नहीं होता।
ब्रेकफास्‍ट में अंडे का सफेद भाग खा कर अंदर के भाग को छोड़ देने से आप बहुत सारा न्‍यूट्रिशन खो देते हैं।
अंडा मोटापे को दूर करता है, लेकिन योल्‍क को न खाना काफी हद तक अनहेल्‍दी हो सकता है।
अंडे के पीले भाग में छिपा है बहुत सारा पोषण
1. डाइटर्स के अनुसार एग वाइट खाने की सलाह दी जाती है क्‍योंकि इसमें कम कोलेस्‍ट्राल पाया जाता है। इसको खाने से बहुत सारा न्‍यूटीशियस सप्‍पलीमेंट मिलता है और वो भी बिना वजन बढ़ाए।
2. वहीं पर एग योल्‍क, कैलोरीज और कोलेस्‍ट्रॉल में ज्‍यादा होता है, जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से बहुत अच्‍छा माना जाता है। पर कई लोग शायद इसलिये इसे नहीं खाते क्‍योंकि उन्‍हें इस बारे में सही जानकारी नहीं होती।
जानिए क्यों दी जाती है, रोज़ अंडा खाने की सलह
3. अगर आपको अपना गुड कोलेस्‍ट्रॉल बढाना है और हार्ट की बीमारियों से दूर रहना है, तो कभी-कभार अंडे के पीले भाग को अपने आहार में जरुर लें।4. इसको खाने से गुड कोलेस्‍ट्रॉल यानी की एचडीएल तो बढ जाता है, लेकिन एलडीएल, बैड कोलेस्‍ट्रॉल लेवल वैसे का वैसा ही रहता है।
5. अगर अंडे के सफेद भाग को पीले वाले भाग से कंपेयर करेंगे, तो पाएंगे की पीले भाग में कैल्‍शियम, आइरन, जिंक, फॉसफोरस, थाइमिन, विटामिन बी6, फोलेअ, विटामिन बी12 और पैंथोनिक एसिड रहेगा।
6. साथ ही पीले भाग में अनसैचुरेटेड फैट पाया जाता है, जो कि हार्ट के रोगी के लिये अच्‍छा होता है। यह इसलिये क्‍योंकि अनसैचुरेटेड फैट, ब्‍लड शुगर लेवल और कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल करता है।
7. अंडा स्‍वास्‍थ्‍य के लिये बहुत अच्‍छा होता है और इसमें खूब सारा पोषण भी पाया जाता है। अगर आपको स्‍वस्‍थ्‍य और फिट बॉडी चाहिये, तो अपनी डाइट में अंडा जरुर शामिल करें। साथ ही अगर आपको पीला भाग नहीं अच्‍छा लगता है, तो हफ्ते में कम से कम तीन बार इसे जरुर खाएं।

..

(साभार :  एजेन्सी / संवाददाता  / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

शिशुओं में दिखने वाले ये लक्षण हो सकते हैं सांस की बीमारी के संकेत > .

शिशु जब गर्भ से बाहर आता है तब वह रोते हुए आता है। क्या आप जानते हैं इसका कारण क्या है? इसका कारण यह है कि गर्भ में तो शिशु मां के गर्भनाल से जुड़ा रहता है और उसी से अपने विकास के लिए जरूरी तत्व पाता है। मगर गर्भ से बाहर आने के बाद उसे ढेर सारी ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। रोते समय शिशु के फेफड़े ज्यादा ऑक्सीजन खींचते हैं। यही कारण है कि जो शिशु रोते हुए नहीं पैदा होते हैं, उन्हें चिकित्सक त