वैज्ञानिकों की इस बड़ी खोज से होगा मच्छरों का खात्मा

डेंगू-मलेरिया जैसी जानलेवा बीमारियां फैलाने वाले मच्छरों से निपटने के लिए वैज्ञानिकों ने नया तरीका खोजा है। उन्होंने मादा मच्छरों में पाए जाने वाले ऐसे प्रोटीन की खोज की है जो उनके प्रजनन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

इस प्रोटीन को निष्क्रिय कर उनकी प्रजनन क्षमता को नियंत्रित किया जा सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ एरिजोना के शोधकर्ताओं का दावा है कि इस तरीके से मधुमक्खी जैसे अन्य उपयोगी कीटों को नुकसान पहुंचाए बिना मच्छरों की संख्या कम की जा सकती है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मच्छरों को दुनिया का सबसे खतरनाक कीट बताया है। 2016 में दुनियाभर में मलेरिया से 21.6 लाख लोग संक्रमित हुए जिनमें से चार लाख 45 हजार की मौत हो गई थी। ऐसे में एरिजोना यूनिवर्सिटी की खोज बड़ी सफलता मानी जा रही है। उम्मीद जताई गई है कि इस खोज से मलेरिया, डेंगू, जीका और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों को खत्म किया जा सकेगा।
एरिजोना यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रोजर मिसफील्ड ने कहा, ‘वर्तमान में मौजूद दवाओं के प्रति मच्छर अपनी प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर चुके हैं। ऐसे में उनके प्रजनन को नियंत्रित करना ही बेहतर विकल्प है। मादा मच्छर में मौजूद प्रोटीन को न‍िष्क्रिय करने से उनके अंडे नष्ट हो जाते हैं।’
गरीबों को सरकार दे रही है पेट्रोल पम्प और रसोई गैस एजेंसी की सौगात, जानें कैसे मिलेगा लाभ…
उन्होंने 5 साल के अंदर इस प्रोटीन को न‍िष्क्रिय करने वाला कीटनाशक बना लेने की उम्मीद जताई है। इसका इस्तेमाल मच्छरदानी और स्प्रे आदि में किया जाएगा।
The post वैज्ञानिकों की इस बड़ी खोज से होगा मच्छरों का खात्मा appeared first on Live Today | Hindi TV News Channel…

(साभार :  एजेन्सी / संवाददाता  / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

ताजा खबरों के अपडेट लगातार पाने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें| आप हमें ट्वीटर पर भी फॉलो कर सकते हैं|

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

ब्रेक्जिट पर फैसले की घड़ी, ब्रिटिश सांसद ब्रेक्जिट समझौते पर आज करेंगे मतदान

ब्रेक्जिट समझौते पर मंगलवार को ब्रिटिश संसद में ऐतिहासिक मतदान होना है। समझौते के खारिज ...